हिंदी कहानी – दो कीमती हीरे | Hindi Kahani – Do Kimati Hire | Motivational Story in Hindi

Table of Contents

आज की ये कहानी दो कीमती हीरे – Do Kimati Hire अच्छी सीख देने वाली प्रेरणादायक कहानी है। इस सरल सी कहानी में अपने स्वाभिमान और ईमानदारी को जिन्दा रखने की बात कही गयी है। लोग जिंदगी में छोटी छोटी बातों पर बेईमानी कर जाते हैं पर इस कहानी में ऊँट का सौदागर दो कीमती हीरों के लिए भी अपने खुद्दारी और ईमानदारी को हरा नहीं पता और हमारा एक हीरो बन जाता है। और हमारे लिए सीख दे जाता है कि खुद्दारी और ईमानदारी से बढ़ कर दुनिया में कुछ भी नहीं है।

दो कीमती हीरे – Do Kimati Hire

एक सौदागर को बाज़ार में घूमते हुए एक उम्दा नस्ल का ऊंट दिखाई पड़ा! सौदागर और ऊंट बेचने वाले के बीच काफी लंबी सौदेबाजी हुई और आखिर में सौदागर ऊंट खरीद कर घर ले आया! घर पहुंचने पर सौदागर ने अपने नौकर को ऊंट का कजावा (काठी) निकालने के लिए बुलाया..! कजावे के नीचे नौकर को एक छोटी सी मखमल की थैली मिली जिसे खोलने पर उसे कीमती हीरे जवाहरात भरे होने का पता चला..! नौकर चिल्लाया, “मालिक आपने ऊंट खरीदा, लेकिन देखो, इसके साथ क्या मुफ्त में आया है!”

सौदागर भी हैरान था, उसने अपने नौकर के हाथों में हीरे देखे जो कि चमचमा रहे थे और सूरज की रोशनी में और भी टिम टिमा रहे थे! सौदागर बोला: “मैंने ऊंट ख़रीदा है, न कि हीरे, मुझे उसे फौरन वापस करना चाहिए!”

नौकर मन में सोच रहा था कि मेरा मालिक कितना बेवकूफ है…! बोला: “मालिक किसी को पता नहीं चलेगा!” पर, सौदागर ने एक न सुनी और वह फौरन बाज़ार पहुंचा और दुकानदार को मख़मली थैली वापिस दे दी!

ऊंट बेचने वाला बहुत ख़ुश था, बोला- “मैं भूल ही गया था कि अपने कीमती पत्थर मैंने कजावे के नीचे छुपा के रख दिए थे! अब आप इनाम के तौर पर कोई भी एक हीरा चुन लीजिए!

“सौदागर बोला, ” मैंने ऊंट के लिए सही कीमत चुकाई है इसलिए मुझे किसी शुक्राने और ईनाम की जरूरत नहीं है!” जितना सौदागर मना करता जा रहा था, ऊंट बेचने वाला उतना ही ज़ोर दे रहा था! आख़िर में सौदागर ने मुस्कुराते हुए कहा: असलियत में जब मैंने थैली वापस लाने का फैसला किया तो मैंने पहले से ही दो सबसे कीमती हीरे इसमें से अपने पास रख लिए थे! इस कबूलनामें के बाद ऊंट बेचने वाला भड़क गया उसने अपने हीरे जवाहरात गिनने के लिए थैली को फ़ौरन खाली कर लिया! पर वह था बड़ी पशोपेश में बोला, “मेरे सारे हीरे तो यही है, तो सबसे कीमती दो कौन से थे जो आपने रख़ लिए?”

सौदागर बोला: “मेरी ईमानदारी और मेरी खुद्दारी.”

शिक्षा:-
हमें अपने अन्दर झांकना होगा कि हम में से किस-किस के पास यह दो हीरे हैं..? जिन-जिन के पास यह 2 हीरे हैं वह दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति हैं।

दोस्तों ये प्यारी से कहानी पढ़ने के लिए बहुत धन्यवाद। आज हमारी ये हमारी प्यारी सी छोटी सी कहानी बहुत ही प्रेरणा देने वाली है। साथ ही ईमानदारी और खुद्दारी जैसे मानव मूल्यों को इसमें इतना महत्व दिया है। क्योंकि आज कल जिंदगी की आपाधापी में हर कोई बस फटाफट अमीर बनाना चाहता है उस समय में इस तरह की कहानियां हवा के ठन्डे झोंके की तरह होती है जो दिल को सुकून भी देती हैं कि अभी भी ऐसे लोग हैं और शायद ऐसे लोग हमेशा रहते हैं जिन पर दुनिया चलती है।

दोस्तों अगर आपको ये कहानी पसंद आयी हो तो प्लीज इसे शेयर अवश्य करें। हम आपके लिए इसी तरह की प्यारी प्यारी कहानिया लाते रहेंगे। और हां हमको कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको हमारी ये दो कीमती हीरे कहानी कैसी लगी।

See Also – हिंदी कहानी – आखिरी प्रयास | Hindi Kahani – Akhiri Prayaas | Motivational Story in Hindi

Leave a Comment